Videos

Bansi Vat Vrindavan | आज भी गुनगुनाता है बंसीवट का वटवृक्ष

Bansi Vat Vrindavan

यह वह स्थान है जहां भगवान कृष्ण ने गोपी के रूप में शरद पूर्णिमा के शुभ दिन पर महारास नृत्य की लीला की। श्री कृष्ण अपनी बांसुरी बरगद के वृक्ष के नीचे बजा रहे हैं, इसे वंशी वट के नाम से जाना जाता है। दिव्य बांसुरी सुनने पर, गोपी भावनात्मक रूप से असहाय हो गयी और वंशी वट की तरफ दौड़ आयी। यहां श्री कृष्ण नित्य ही बांसुरी बजाते हैं।

श्री कृष्ण ने गोपियों के लिए कई रूपों को धारण किया। यह वंशी वट की लीला 5500 वर्ष पुरानी है। भगवान शिव इस स्थान पर महारास के दौरान एक गोपी के रूप में आए और इसलिए श्री कृष्ण ने उन्हें “गोपीश्वर महादेव” नाम दिया। यह भी उल्लेख किया गया है कि “वृंदावन की तरह कोई जगह नहीं है, नंद गांव जैसा कोई गांव नहीं है, वंशी वट की तरह कोई बरगद का वृक्ष नहीं है, और राधा कृष्ण की तरह कोई नाम नहीं है”।

Bansi Vat Vrindavan

श्री कृष्ण के लिए गोपियों का इतना गहरा प्रेम था कि उन्होंने श्री कृष्ण की इच्छा के लिए अपने बच्चों, पतियों और घरों को छोड़ दिया। रास लीला के दौरान, श्री कृष्ण ने गोपियों को वियोग दिया और उनसे अलक्षित हो गए। गोपियों ने कृष्ण की खोज शुरू कर दी और जब कृष्ण से अलग होने की उनकी तीव्र भावना पागल पन के चरम बिंदु तक पहुंचने वाली थी, कृष्ण उनके सामने उनके शुद्ध प्यार से प्रभावित होकर आगये। यहां एक बड़ा वट वृक्ष का रूप भी है जहां श्री राधा गोपीनाथ दिखाई दिए (जो अब जयपुर में है)। ऐसा माना जाता है कि आज भी श्री कृष्ण अपनी बांसुरी बजा रहे हैं और कई लोग दावा करते हैं कि वे भी इसे सुन सकते हैं।

जब चैतन्य महाप्रभु पहले वृंदावन आए, तो वह केवल वंशी वट आए।

सूरदास जी ने दिव्य स्थान के लिए एक पद लिखा है:

“कहाँ सुख ब्रज कौसो संसार !
कहाँ सुखद वंशी वट जमुना, यह मन सदा विचार।”

जिसका अर्थ है ” वंशी वट वृंदावन यमुना जी के किनारे को छोड़कर दुनिया में कहीं भी कोई सुख नहीं है”।

Bansi Vat Vrindavan

जी हां यह वंशीवट स्थान वही है जो भगवान श्रीकृष्ण ने द्वापर युग में अपनी माता यशोदा माता से कहा था। इसी स्थान पर रास बिहारी ने तरह-तरह की लीलाएं कीं। तहसील मांट मुख्यालय से एक किमी दूर यमुना किनारे यह स्थान है यहां पर कन्हैया नित्य गाय चराने जाते थे। बेणुवादन, दावानल का पान, प्रलम्बासुर का वध तथा नित्य रासलीला करने का साक्षी रहा इस वट का नाम वंशीवट इसलिये पड़ा कि इसकी शाखाओं पर बैठकर श्री कृष्ण वंशी बजाते थे और गोपियों को रिझाते थे। वंशीवट नामक इस वटवृक्ष से आज भी कान लगाकर सुनें तो ढोल मृदंग, राधे-राधे की आवाज सुनायी देती है।

इसकी छांव में बैठकर भजन करने से मनोकामना पूरी होती है इसी स्थान पर सैकड़ों साधु तपस्या में लीन रहते हैं। वंशीवट स्थान के महंत जयराम दास महाराज इस स्थान के जीर्णोद्धार के लिये रात दिन एक किये हुये हैं। परन्तु शासन प्रशासन ने इस पौराणिक धरोहर को संजोने के लिये कोई कदम नहीं उठाया।

3 thoughts on “Bansi Vat Vrindavan | आज भी गुनगुनाता है बंसीवट का वटवृक्ष

  • Carolinet

    Can provide a link mass to your website

    Reply
  • Your site’s position in the search results.

    Reply
  • very good information.. thanks

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *